देश का ये राज्य पूरी तरह से 'विपक्ष मुक्त' हो गया है, सभी विधायक 'एनडीए गठबंधन' का हिस्सा हैं


सिक्किम विधानसभा, सिक्किम विधानसभा विपक्ष- इंडिया टीवी हिंदी

छवि स्रोत : FACEBOOK.COM/CMPSGOLAY
मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग और विधायक तेनजिंग नोरबू लाम्था।

गंगटोक: सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के एकमात्र विधायक तेनजिंग नोरबू लाम्था बुधवार को सत्तारूढ़ सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा (एसकेएम) में शामिल हो गए। इस तरह अब सिक्किम में विपक्ष का एक भी विधायक नहीं बचा है। आपको बता दें कि सिक्किम में हुए विधानसभा चुनाव में सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा और भारतीय जनता पार्टी ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था, लेकिन एसकेएम केंद्र में भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए का हिस्सा है। इस तरह हम कह सकते हैं कि सिक्किम में विपक्ष का एकमात्र नेता एनडीए गठबंधन में शामिल हो गया है।

सीएम ने फेसबुक पोस्ट में दी जानकारी

सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म 'फेसबुक' पर पोस्ट कर कहा, 'आज अपने आधिकारिक आवास पर 23-सियारी विधानसभा सीट के विधायक तेनजिंग नोरबू लाम्था से मिलकर मुझे बहुत खुशी हुई। वह आधिकारिक तौर पर हमारे एसकेएम परिवार में शामिल हो गए हैं।' तमांग ने माना कि लाम्था ने अपने निर्वाचन क्षेत्र के हितों से जुड़ी चिंताओं को उठाया था। उन्होंने कहा कि इस निर्वाचन क्षेत्र की समस्याओं को अब एक व्यापक विकास योजना के तहत हल किया जाएगा।

लामथा ने शिक्षा मंत्री को हराया था

हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में जीतने वाले लमथा एकमात्र एसडीएफ नेता थे। उन्होंने एसकेएम के वरिष्ठ नेता और शिक्षा मंत्री कुंगा नीमा लेप्चा को 1,314 मतों के अंतर से हराया। एसकेएम में शामिल होने के अपने फैसले पर वे टिप्पणी के लिए उपलब्ध नहीं थे। 2 जून को चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद से ही उनके एसकेएम में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही थीं। भविष्य की योजनाओं के बारे में पूछे जाने पर लमथा ने कहा था, 'मैं जनता से सलाह लेने के बाद आगे के कदम उठाऊंगा।'

वर्तमान में विधानसभा में 2 सीटें रिक्त हैं

विधानसभा चुनाव में एसकेएम ने 31 सीटें जीती थीं, जबकि विपक्षी एसडीएफ को सिर्फ एक सीट मिली थी। वर्तमान में विधानसभा में 32 में से 30 सदस्य हैं, जो सभी एसकेएम के सदस्य हैं। सोरेंग-चाकुंग विधानसभा सीट से मुख्यमंत्री तमांग और नामची-सिंघीथांग सीट से उनकी पत्नी कृष्णा कुमारी राय के इस्तीफे के बाद दो सीटें खाली हैं। 2 निर्वाचन क्षेत्रों से चुने गए तमांग ने रेनॉक सीट बरकरार रखी और सोरेंग-चाकुंग विधानसभा सीट से इस्तीफा दे दिया। इस तरह सिक्किम फिलहाल पूरी तरह विपक्ष मुक्त है।

नवीनतम भारत समाचार





Source link

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here